• Visitors:
  • Shipping Corporation of India
  • |
  • 20 Oct  Shipping Corporation of India
Shipping Corporation of India

तकनीकी सेवाएं

जहाज निर्माण एवं सेवाएं  (एस बी ऐंड एस)
 
सिंहावलोकन
 
जहाज निर्माण एवं सेवा (एस बी एवं एस) विभाग एस सी आई के टनभार अधिग्रहण के लिए विभाग है.एस बी एवं एस विभाग नई और पुरानी जहाजों के अधिग्रहण द्वारा कंपनी के '' टनभार अधिग्रहण कार्यक्रम'' की योजना, प्रबंधन एवं कार्यान्वयन करता है|
 
मोटे तौर पर  एस बी एवं एस विभाग नए निर्माण और तकनीकी परामर्श सेवाओं में लगा हुआ है|
 
क) नवनिर्माण सेवाएं
 
तकनीकी सेवा विभाग द्वारा शुरु की गई विभिन्न गतिविधियों से यह सुनिश्चित होता है कि एस सी आई के पास नया, आधुनिक और तकनीकी रुप से सक्षम बेड़ा है जो अद्यतन अंतरराष्ट्रीय नियमों, विनियमनों और अत्यधिक आधुनिक और महत्वपूर्ण विनिर्देशनों के श्रेणी की अपेक्षाओं के अनुरुप है|
 
अंतरराष्ट्रीय अपेक्षाओं पर निर्भर और प्रचालन प्रखंड की अपेक्षाओं तथा बाजार की प्रवृत्तियों पर भी निर्भर नए जहाजों के निर्माण के लिए यह विभाग तकनीकी विनिर्देशन तैयार करता है.यह एस सी आई के विनिर्देशनों के समकक्ष शिपियार्डो को लाने के लिए उनके साथ तकनीकी परिचर्चा भी करता है.एस बी एवं एस नव निर्माण संविदाओं के मोल तोल में और उन्हें बंद करने में, योजना और डिजाइन के अनुमोदन तथा जहाजों की डिलिवरी तक निर्माण गतिविधियों की स्थल पर्यवेक्षण में लगा रहता है.अतएव संकेंद्रण गारंटी मामलों के लिए अनुगमन पर रहता है|
 
ख) तकनीकी परामर्श सेवाएं

एस बी एवं एस विभाग विभिन्न संगठनों को उनके ''टनभार अधिग्रहण कार्यक्रम '' के लिए ''तकनीकी परामर्श'' सहायता भी उपलब्ध कराता है.इनमें शामिल हैं :
 
अंडमान एवं निकोबार प्रशासन, लक्षद्वीप संघ क्षेत्र, भारतीय भूगर्भ सर्वेक्षण, लाइट हाउस एवं लाइट शिप महानिदेशालय एवं भारत सरकार का  समुद्री विकास विभाग और ओ एन जी सी|
 
नव निर्मित जहाजों के लिए दी जाने वाली परामर्श सेवाओं में निम्न शामिल हैं :
 
परियोजना की व्यवहार्यता एवं संभाव्यता
 
• बाजार अध्ययन
• सांविधिक अनुमोदन प्राप्त करना
• अंतरराष्ट्रीय निविदा प्रक्रिया के माध्यम से शिप बिल्डिंग यार्डो का चयन
 
डिजाइन परामर्श
 
निम्न की तैयारी :
• तकनीकी विनिर्देशन
• प्रारंभिक जी ए योजना
• प्रारंभिक मशीनरी रेखाचित्र योजना
•  प्रारंभिक आवास
 
रेखाचित्र योजना
 
परियोजना प्रबंधन
निम्न की तैयारी :
•  जहाज के निर्माण की संविदाएं
•  निर्माण के दौरान वित्त पोषण की निगरानी
•  शिष्टाचार की डिलिवरी एवं संबंधित दस्तावेज
•  डिलिवरी के पश्चात और गारंटी मामले
•  पुरानी जहाजों की खरीद
 
स्थल पर्यवेक्षण
•  योजना अनुमोदन
•  यार्ड में जहाज निर्माण का पर्यवेक्षण
•  परीक्षण एवं ट्रायल पर्यवेक्षण
•  जहाजों की डिलिवरी एवं स्वीकार्यता

पुरानी जहाजों के अधिग्रहण के लिए प्रदत्त परामर्श सहायता में निम्न शामिल हैं :
 
•  जहाजों के प्रकार और आकार का पता लगाना
•  आफर प्राप्त करना और उसका मूल्यांकन करना
•  श्रेणी अभिलेखों का निरीक्षण
•  जहाजों का वास्तविक निरीक्षण
•  मालिकों / सरकारी अनुमोदन के लिए विशिष्ट प्रस्तावों को संसाधित करना
•  जहाजों की डिलिवरी लेना
 
महत्वपूर्ण लोग

श्री जे.वी.एस. राव
महाप्रबंधक
टेली.: 022-25701430
ई-मेल: jvs.rao@sci.co.in