• Visitors:
  • Shipping Corporation of India
  • |
  • 24 Oct  Shipping Corporation of India
Shipping Corporation of India

संयुक्त उद्यम

संयुक्त उद्यम (जेवीसी)
 
लिक्विफाइड नैचुरल गैस का परिवहन
 
• लिक्विफाइड नैचुरल गैस (एलएनजी) को भारतीय पॉवर प्लांटों के लिए भावी ईंधन के रुप में तथा केमिकल/पेट्रोकेमिकल उद्योग के लिए फीडस्टॉक के रुप में पहचान लिया गया है|
 
• एससीआई ने एलएनजी के परिवहन को एक प्रमुख एवं उन्नतिकारक क्षेत्र में पहचाना है तथा पेट्रोनेट एलएनजी परियोजना में अपनी उपस्थिति दर्ज की है|
 
इंडिया एलएनजी ट्रांसपोर्ट कंपनी इंडिया नं.1 और 2 लि.
 
• एससीआई ने 3 भागीदारों के संघ (कंसोर्शियम) के साथ अर्थात् जापान शिपिंग लाइन - एमओएल, एनवाईके और के-लाइन ने दो एलएनजी टैंकर क्रमश: एस.एस. दिशा और एस.एस. राही के निर्माण, मालिकी तथा परिचालन के लिए दो संयुक्त उद्यम कंपनियां अर्थात इंडिया एलएनजी ट्रान्सपोर्ट कं. नं.1 और इंडिया एलएनजी ट्रांसपोर्ट कं. नं.2 की माल्टा में स्थापना की|
 
• इन जहाजों की सुपुर्दगी क्रमश: दिनांक 09.01.2004 और 17.12.2004 को ली गई|
 
• इस संयुक्त उद्यम कंपनी में 15% इक्विटी के हिस्से के साथ कतार शिपिंग कंपनी भी एक भागीदार कंपनी बन गई|
 
• प्रत्येक जेवीसी में एससीआई की इक्विटी साझेदारी 29.08% है|
 
इंडिया एलएनजी ट्रांसपोर्ट कंपनी इंडिया नं.3 लि.
 
• एससीआई ने विद्यमान कंसोर्शियम के अपने 3 जापानी भागीदारों क्रमश: एमओएल, एनवाईके और के-लाइन के साथ मिलकर माल्टा में संयुक्त उद्यम कंपनी स्थापित की, जो 154,800 क्युबिक मीटर क्षमता के एक एलएनजी टैंकर का निर्माण, मालिकाना और उसे परिचालित करके मेसर्स पेट्रोनेट एलएनजी लि. (पीएलएल) दाहेज एक्सपांशन प्रोजेक्ट के लिए नियोजित थी. कतार गैस ट्रान्सपोर्ट कंपनी और पीएलएल जेवीसी में मिल गई है. एलएनजी टैंकर की डिलीवरी नवम्बर 2009 में हो गई है|
 
• टाइम चार्टर एग्रीमेंट 25 वर्षों के अवधि के लिए अर्थात् वर्ष 2034 तक के लिए बना है.  पीएलएल, दहेज टर्मिनल तक अतिरिक्त 2.5 मिलियन मेट्रिक टन एलएनजी की आपूर्ति तीसरा टैंकर करेगा, जिसकी क्षमता बढ़ायी गयी है.  कतार गैस ट्रान्सपोर्ट कं. लि. और पीएलएल क्रमश: 20% और 3% शेयर के साथ कंपनी में मिल गई है.  एससीआई के संयुक्त उद्यम कंपनी में 26% का शेयर है|
 
रासायनिक मालवाहक जहाजों के लिए जेवीसी
 
एससीआई ने रासायनिक टैंकरों के स्वामित्व एवं परिचालन के लिए मेसर्स एससीआई फोर्ब्स लिमिटेड नाम की संयुक्त उद्यम कंपनी स्थापित की, अर्थात मेसर्स फोर्ब्स एंड कंपनी लिमिटेड (पूर्वकालीन मेसर्स फोर्ब्स गोकाक लि.) और मेसर्स स्टर्लिंग इनवेस्टमेंट प्रा. लि. के साथ मिलकर.  संयुक्त उद्यम कंपनी ने प्रत्येक 13,000 डीडब्ल्यूटी के 4 केमिकल टैंकर की ऑर्डर दे दिया है, जिसकी सुपुर्दगी वर्ष 2009 में हो गई है|
 
ईरानो हिन्द शिपिंग कंपनी (पीजेएस)
 
• एससीआई ने ईरान में दूसरी संयुक्त उद्यम कंपनी की स्थापना की अर्थात ईरानो हिन्द शिपिंग कंपनी (आईएचएससी) जिसने 3 दशक से सफलतापूर्वक  परिचालन कर रही है|
 
• एससीआई और इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ ईरान शिपिंग लाइन्स (आईआरआईएसएल) के बीच तेहरान में मार्च 1975 में एक संयुक्त उद्यम की स्थापना की गई थी|
 
• इस जेवीसी ने सफलतापूर्वक कारोबार किया, और ईरानी वर्ष 1386, 19 मार्च 2008 के अंत तक के दौरान, इसने कर पश्चात् शुद्ध लाभ 19.285 बिलियन ईरानी रियाल (2.087 मिलियन यूएस डॉलर) अर्जित किया.  ईरानी वर्ष 1386 के लिए मेसर्स आईएचएससी और उनकी सहायक कंपनियों ने कुल मिलाकर ईरानी रियाल 265.050 बिलियन (यूएसडी 28.685 मिलियन) कर पश्चात शुद्ध लाभ रहा|
 
• आईएचएससी ने संतोषजनक रुप से अपना कारोबार जारी रखा है और ईरानी वर्ष 1387 के पूर्वार्ध (20-03-2008 से 19-09-2008) के दौरान संयुक्त उद्यम और उनकी सहायक कंपनियों का कुल मिलाकर कर पश्चात् शुद्ध लाभ यूएसडी 40.78 मिलियन (अनंतिम) रहा जबकि ईरानी वर्ष 1386 के उत्तरार्ध के लिए यूएसडी 15.52 मिलियन (अनंतिम) तदनुरुप आँकड़े थे|
 
• सहायक कंपनियों के साथ मिलकर इस संयुक्त उद्यम कंपनी के पास दिनांक 30.11.2008 को लगभग 0.494 मिलियन डीडब्ल्यूटी के कुल 8 जहाज थे|
 
• ईरानी वर्ष 1386 के दौरान कंपनी ने एक 159,000 डीडब्ल्यूटी के नवनिर्मित सुएजमैक्स टैंकर की सुपुर्दगी ली और 159,000 डीडब्ल्यूटी के एक नये सुएजमैक्स टैंकर जहाज के लिए हुंडाई सेम्हो हैवी इंडस्ट्रीज, कोरिया के साथ करार किया, जिसकी डिलीवरी जनवरी 2011 में होने की उम्मीद है.  वर्ष 1386 के दौरान नौबेड़े से कोई जहाज नहीं हटाया गया. कंपनी का टनभार जनवरी 2011 में 0.81 मिलियन डीडब्ल्यूटी (लगभग) बढ़ जाएगा|
 
• आईएचएससी ने ईरानी वर्ष 1386 (19 मार्च 2008 को समाप्त वर्ष) के लिए ईरानी रियाल 9.24 बिलियन (यूएसडी 1 मिलियन) का लाभांश एससीआई और आईआरआईएसएल के शेयरहोल्डर को अदा किया, जिसमें मार्च 2008 में 481,644.40 यूएसडी के बराबर का भुगतान एससीआई को अदा किया.  दिनांक 30.07.2007 को आयोजित वार्षिक साधारण सभा में आईएचएससी के शेयरहोल्डर को ईरानी रियाल 75 बिलियन (यूएसडी 8.36 मिलियन के बराबर) और 08.08.2008 के वार्षिक साधारण सभा में अतिरिक्त ईरानी रियाल 15 बिलियन (यूएसडी 1.67 मिलियन के बराबर) बोनस शेयरों को जारी करने की सिफारिश की है|